Skip to main content

असफलताओ में सफलता का रहस्य...





यदि आप बार बार किसी कार्य में असफलल होते है तो घबराये नही... क्योकि असफलता ही हमे सफलता प्राप्त कराती है।

आप सफलता को इस प्रकार परिभाषित कर सकते है कि असफलताओ का सग्रंह ही सफलता का मुल मंत्र है

असफलता ही हमें  इस बार क्या नही करना है इस बात का पुर्ण ज्ञान कराती है।

स्वयं के प्रयासो में निरंतरता बनाये रखे.. फिर देखे यकीनन बेहतर परिणाम आयेगे।


                                         मोहब्बत की नजरं पहले बफा में शान पैदा कर।

                                         बुलंदी ओर बस्ती में जरां पहचान पैदा कर।।

                                         ना हो माहौल से मायुस दुनिया खुद बना अपनी।

                                         नयी कस्ती नयी आँधी नया तुफान पैदा कर।।


                                        दुश्वार कुछ भी नही उड़ानो के सामने।

                                        उचेँ नही है पहाड़ परीदों के सामने।।

                                        थोड़ा ही सही चराग को रोशनं तो करके देख।

                                        टिकते नही है अधेंरे उजालों के सामने।।







आपको य़ह पोस्ट कैसी लगी कृप्या अपने सुझाव दे......











                          

Popular posts from this blog

UPSSSC Forest Guard Online Form 2019 Apply now.

UPSSSC
Post Name – Forest Guard Online Form 2019
IMPORTANT DATES
• Starting Date – 18-07--2019Fee Payment Last Date – 08-08-2019Last Date To Apply – 08-08-2019Correction last Date – 16-08-2019Admit Card  Available - Available Soon .....................................................................................................................................................

राजा दिलीप की कथा... “रघुवंशम” एक विचित्र सार.....पढ़े क्या है रहस्य

*रघुवंश का आरम्भ राजा दिलीप से होता है । जिसका बड़ा ही सुन्दर और विशद वर्णन महाकवि कालिदास ने अपने महाकाव्य रघुवंशम में किया है । कालिदास ने राजा दिलीप, रघु, अज, दशरथ, राम, लव, कुश, अतिथि और बाद के बीस रघुवंशी राजाओं की कथाओं का समायोजन अपने काव्य में किया है। राजा दिलीप की कथा भी उन्हीं में से एक है।*


*राजा दिलीप बड़े ही धर्मपरायण, गुणवान, बुद्धिमान और धनवान थे । यदि कोई कमी थी तो वह यह थी कि उनके कोई संतान नहीं थी । सभी उपाय करने के बाद भी जब कोई

क्रोध के दो मिनट......पढे प्राचीन परन्तु विचारणीय कहानी....

एक युवक ने विवाह के दो साल बाद
परदेस जाकर व्यापार करने की
इच्छा पिता से कही ।

पिता ने स्वीकृति दी तो वह अपनी गर्भवती
पत्नी को माँ-बाप के जिम्मे छोड़कर व्यापार
करने चला गया ।

परदेश में मेहनत से बहुत धन कमाया और
वह धनी सेठ बन गया ।
सत्रह वर्ष धन कमाने में बीत गए तो सन्तुष्टि हुई
और वापस घर लौटने की इच्छा हुई ।


पत्नी को पत्र लिखकर आने की सूचना दी
और जहाज में बैठ गया ।