• कोई किसी को जब तक नही समझा सकता जब तक वह स्वंम समझना न चाहता हो। स्वंय को बेहतर मानने से ही दूसरे को हम बेहतर लगेगे। 

    कोशिश करे कि स्वंय के कमिटमेंट को हर हाल में पूरा किया गया जाये। दुसरो की बुराई करने से बचे , अच्छाई तलाशने की कोशिश करे । जितना आवश्यक हो उतना ही बोले। प्रतिदिन जो सीखा उसके बेहतर परिणाम के लिए उस कार्य को उसी दिन एक्जीक्यूट करे। 










 कृप्या अपने सुझाव कमेंट बाक्स में लिखे।